• Profile picture of JvConnect

    JvConnect

    1 week, 5 days ago

    नमस्कार,

    दर्शन के प्रकाशित वांग्मय के डिजिटल फाइल *(pdf) अब ‘सर्चेबल’ (searchable)* हैं | उदाहरण के लिए आप अब प्रत्येक पुस्तक के फैल में ‘न्याय’, ‘विधि’, ‘साक्षात्कार’ इत्यादी ढूंढ सकते हैं |
    .
    यह कंप्यूटर में किसी भी पीडीऍफ़ व्यूअर में कार्य करेगा | यह शोध के लिए उपयोगी रहेगा |
    इनमें अकस्मात् त्रुटी होने पर, पूर्व में स्कैन्ड फाइल्स (जिन्हें सर्च नहीं किया जा सकता था) – अलग फोल्डर में दिया गया है | The new searchable files have a suffix_ocr in them. साथ में, ‘संवाद १’ एवं २ अब मोबाइल पर पढ़े जा सकते हैं |

    पुस्तक डाउनलोड लिंक – https://bit.ly/3aSOxAr

    ***
    टेक्नोलॉजी में परिवर्तन के कारण सारे पुस्तक अब ‘Unicode’फॉण्ट में प्रकाशित होंगे | यह फॉण्ट ‘Linotype Saral’ है, जो प्रिंटेड देवनागरी में सर्वोच्च माना जाता है | फॉण्ट-साइज़ , पेज लेआउट में परिवर्तन हुआ है, इसीलिए आगामी प्रकाशित पुस्तकों में पृष्ठ संख्या (Page Numbers, total pages) में परिवर्तन रहेगा |
    पुस्तक के आकार (साइज़) में कोई परिवर्तन नहीं है | यह नए पुस्तक जैसे जैसे छपेंगे, इन्हें ऑनलाइन लाइब्रेरी में रखा जायेगा |
    पुराने फाइल्स (जिन्हें ऊपर दिया गया है) को भी रखे रहेंगे |
    सारे पुस्तकों के पुराने संस्करण (first & previous editions) एवं इनके पांडुलिपियाँ शोध हेतु लाइब्रेरी (bit.ly/anagraj) में उपलब्ध हैं |
    .
    पुराने स्कैन्ड सामग्री को आगामी वर्षों में टाइप्ड कराया जायेगा, ताकि पढने/शोध में सुलभता हो |

    – दिव्य पथ संस्थान
    कांटेक्ट – info@divya-path.org
    – अन्य शिविर संबंधी जानकारी के लिए login करें.. –
    http://www.jvconnect.info
    .
    धन्यवाद
    साभार:
    अचल भैया, श्रीराम भैया व टीम के अन्य सभी सदस्य।।
    🙏💐💐🙏